Be Industry Ready after your Graduation (Bachelor of Commerce)

TaxGuru Mukunda is offering you a course to make you ready for the job BCom graduates are going to take.

The course is extensive and he is charging very little compared to what he will teach.

The course details are as follows:

Certificate Course in Financial  Accounting and Taxation

Education Criteria:

-12th pass/Graduate (Any Stream)  

-Working Professional with 0-1 Year of Work experience looking to upgrade his/her knowledge.

-Students must have good Knowledge of the Hindi/English Language  

-Student looking to make a career in Financial Sector 

Selection Process

  • Inquiry
  • Counseling with Career Coach
  • Enrolment According to Eligibility
  • Registration

***********************************************

What will you learn?

Importance of Accounting

Accounting Standers & Concepts

Bookkeeping

Types of Source Documents, Transaction & Vouchers

Transaction Analyses

Accounting Cycle

Financial Reports

Accounting Reports

Stock Valuation

Accounts Payables and Receivables

Accounting Software

Payroll and Income Tax with Tally ERP9  

Income Tax Computation

Income Tax E-filing

Tax Deduction at Source (TDS)

Tax Collected at Source (TCS)

TDS/TCS E-filing

Goods & Service Tax ***********************************************

Course Modules:

Introduction to Accounting:

1. Welcome to the Course  

2. Module Introduction

3. Agenda of the Course

4. What is Accounting?

5. What is Accounting Process?

6. Purpose of the Accounting Process

7. Importance of the Accounting Process

8. Accounting Activities

9. Objective & Scope of Accounting

Accounting Standards: 

1. Module Introduction

2. What are Accounting Standards?

3. Primary objective of Accounting Standards

4. Accounting Standards 1 to 29

5. Activities

Fundamentals Concepts of Accounting

1. Module Introduction

2. Accounting Process/Cycle

3. Accounting Principle

4. Elements of Accounting: Assets; Liabilities & Capital

5. Activities

Voucher and Source Documents

  1. Module Introduction
  2. What is the Source of Documents
  3. Different types of Source Documents
  4.  Voucher
  5. Voucher payments
  6. Source of Documents of payments Voucher
  7. Challan
  8. Delivery challan
  9. Credit Note
  10.  Activities/practice

Book Keeping

1. Module Introduction

2. What is Book Keeping/record keeping?

3. Importance of BookKeeping

4. Example of BookKeeping

5. Steps followed by Accountant

6. Basic Record-Keeping in Accounts

7. Duration of Recordkeeping

8. Activities

Tally

1. Module Introduction

2. What is Tally?

3. Features of Tally

4. Step followed for a Program in tally Prime

5. Tally Terminology

6. Accounts and Group

7. Creating Single and Multiple Groups

8. Creating Ledger in Tally

9. Voucher in Tally

10. Accounting Voucher

11. Inventory Voucher

Journal Entries

1. Module Introduction

2. Journal Entries-Meaning

3. Compound Journal Entries

4. Example of Journal

Posting & Ledger

1. Module Introduction

2. Posting to the Ledger

3. General Ledger Reconciliation Process

4 General Ledger flow

5. Practice

Trial Balance

1. Trial Balance – Testing the equality between Debits and credit

2. Trial Balance Format

3. Errors in Trial Balance

4. Correction Entries: for Errors made in the journal

5. Activities

6. Tally Practice

Adjusting Entries

  1. Module Introduction
  2. Introduction to Adjusting Entries-Purpose types, and Compositing
  3. Types of Adjusting Entries
  4. Composition of an Adjusting Entry
  5. Accrued income – income earned but not yet received
  6. Accrued Expense – Expenses Incurred but not yet paid
  7. Deferred Income  – Income earned but not yet received
  8. Liability method of Recording unearned Revenue
  9. Income Method of Recording unearned Revenue
  10. Adjusting Entry for Prepaid Expense
  11. Adjusting Entry for Depreciation Expense
  12. Understanding the concept of Depreciation Expense
  13. Adjusting Entry for Bad debts Expense
  14. Direct Write-off
  15. Activities/practice
  16.  Tally Practice

Bank Reconciliation Statements

  1. Module Introduction
  2. Introduction to Bank Reconciliation
  3. Bank Reconciliation Statements
  4. Rules for preparing Bank Reconciliation Statements
  5. Format of Bank Reconciliation Statements
  6. Example of Bank Reconciliation Statements
  7. Bank Reconciliation Statements in Tally
  8. Activities/practice
  9. Tally Practice 

Introduction to Financial Reports

  1. Module Introduction
  2.  Know About Financial Statements
  3. Purpose of Accounting Reports and Financial Statements
  4. The user of Financial Statements
  5. Definition of Retained Earnings, Depreciation & Dividend
  6. Income Statements
  7. Statements of owner’s equity
  8. Balance Sheet
  9. How to read the Balance sheet
  10. Cash flow statements
  11. Fund flow Statements
  12. Debtor Analysis
  13. Asset Register
  14. Inventory List
  15. Activities/Practice
  16. Tally Practice

Ratio Analysis

  1. Module Introduction
  2. Ratio Analysis
  3. Uses of Ratio Analysis
  4. Liquidity Ratios
  5. Solvency Ratios
  6. Profitability Ratios
  7. Efficiency Ratios
  8. Market Value Ratios
  9. Activities/Practice
  10.  Tally Practice

Excel for Accountants

  1. Module Introduction
  2. Cash Book
  3. Day Book
  4. Petty Cash Book
  5. Display columnar Report
  6. Financial Statements Preparation in Excel
  7. Activities/Practice

Taxation

1. Module Introduction

2. Introduction to Taxation

3. Direct Tax and Indirect Taxation

4. Types of Taxes

5. Types of Direct Tax

6. Income Tax

7. Residential Status

8. Income from Salary

9. Income from House Property

10.  Income from Business and Profession

11. Income from Capital Gain

12. Income from Other Sources

13. Deduction

14. ITR filing

15. Activities/Practice

Tax Deduction at Sources

  1. Module Introduction
  2. Tax deduction at Sources
  3. The objective of Tax Deduction at Sources
  4. Non –Compliance with paying TDS
  5. TDS Certificate
  6. Journal Entries for TDS
  7. TDS on Salary
  8. Latest TDS Rate
  9. Activities/Practice   

Tax Collection at Sources

  1. Module Introduction
  2. Tax Collected at Sources
  3. TCS Certificate
  4. Exemption
  5. TCS in Tally
  6. Activities /Practice

Goods and Service Taxes

   1. Module Introduction

   2. Benefits of Good and Service Taxes

   3. GST Terminologies

   4. Key Objective of GST

   5. GST Rates

   6. Composition Scheme

   7. Input Tax Credit

   8. GST Accounts in Tally

   9. HSN /Sac Details

  10.  GST E-way Bill

  11. GST Invoicing

  12.  GST Portal

  13. GST Registration number

  14. GSTR 01

  15. GSTR 02

  16. GSTR 2A

  17. GSTR 3B

  18. Annual Returns

  19. GST Reports

  20. GST return Forms

 21. Due Dates for Filing Return

 22. Activities

 23. Tally Practice

Income Tax Return Filing

  1. Module Introduction
  2. What is Introduction
  3. When you Should file ITR
  4. ITR Forms
  5. Users of ITR forms
  6. Steps for ITR forms
  7. Activities /Practice

Practice Classes

3 Days Practice (12-20 hours) & course Revision class

To know more about the course, contact him through WhatsApp or book directly from the link below:

पेमेंट्स बैंक किसे हैं ? (What is Payment Bank)

हमारे देश भारत में कई प्रकार के बैंक हैं जैसे Central बैंक (RBI), Cooperative Banks, Commercial Banks, Regional Rural Banks (RRB), Local Area Banks (LAB), Specialized Banks, Small Finance Banks, and Payments Banks.

आज हमलोग कई प्रकार के बैंको में से एक Payments Bank के बारे में विस्तार से जानेगे। 

       दोस्तों PAYMENTS BANKS हमारे देश में मौजूद अन्य बैंको से अलग प्रकार का एक बैंक हैं, दोस्तों PAYMENTS BANKS सामान्य बैकिंग की सारी जरूरतों को पूरा करेगी, इस तरह के बैंको पर GOV ने कुछ विशेष तरह के प्रतिबंध लगा रखा हैं जैसे PAYMENTS BANKS पैसे को जमा एंव निकासी कर सकेंगे लेकीन क्रेडिट कार्ड एंव ऋण निर्गत नहीं कर सकता हैं। अपने देश में कुल 11 बैंको को PAYMENTS BANKS का लाइसेंस मिला हुआ था जिसमे अभी मात्र 6 PAYMENTS BANKS कार्यरत हैं। इस तरह के बैंक का उदेश्य प्रवासी कर्मचारियों को लाभ पहुंचना है साथ ही देश के गरीब समुदाय के लोगो को बैंकिंग प्रणाली से जोड़ना भी शामिल हैं, ताकि अगर सरकार इन लोगो को समय समय पर अनुदान के रूप में जो धनराशि राशि भेजती हैं वह राशि इन पेमेंट बैंको माध्यम से सीधे इनके खाते में पहुंच जाये। 

आईये एक नजर इसके इतिहास पर डालते हैं :

                    Established payment बैंक बनने की प्रक्रिया सबसे पहले 23 सितबंर 2013 को नचिकेत मोर की अध्यक्षता में एक कमिटी की गठन की गयी उसी कमिटी ने PAYMENTS BANK नामक बैंक की एक नई श्रेणी की गठन की सिफारिश की गयी एंव 17 जुलाई 2014 को RBI द्वारा  पेमेंट्स बैंको के लिए एक दिशा निर्देशों का ड्राफ्ट तैयार किया गया उसके बाद 24 नवंबर 2014 को RBI  द्वारा अंतिम दिशा निर्देश जारी कर दी गयी थी एंव 27 नवंबर 2014 को RBI द्वारा पेमेंट बैंको के लिए जारी दिशा निर्देश के तहत कुल 11 पेमेंट बैंको को “इन प्रिंसिपल” मंजूरी दे दी। 

पेमेंट बैंको की विशेषता (Features of Payment Bank) :  

– उपभोक्ता इस तरह के बैंक में अपना चालु एंव बचत खाता खोल सकते हैं |

 ये सभी प्रकार के बैंक भारत सरकार के दिशा निर्देश के अनुसार काम करती हैं, इन सभी प्रकार के बैंको के रजिस्ट्रेशन से लेकर कार्य प्रणाली के अपने कुछ नियम हैं।

– अन्य बैंको की तरह ये बैंक भी उपभोक्ताओं का पैसा जमा कर सकता हैं लेकिन एक उपभोक्ता से मात्र एक लाख तक ही जमा स्वीकार कर सकते हैं |  

– Payment Bank उपभोक्ता को डेबिट कार्ड या ATM कार्ड तो जारी कर सकता हैं लेकिन क्रेडिट कार्ड जारी नहीं कर सकता हैं |

– Payment Bank NRI से जमा स्वीकार नहीं कर सकता हैं |

– Payment Bank को अन्य बैंको की तरह ही RBI के पास CRR के रूप में राशि जमा करनी होगी |

– Payment Bank अपने ग्राहकों को सभी तरह के बिल का भुगतान की सुविधा देती हैं |

– Payment Bank दूसरे बैंको से अलग दिखने के लिए पेमेंट्स शब्द का इस्तेमाल करता हैं |

– PAYMENTS BANKS RBI द्वारा  भुगतान की सुविधाओं जैसे RTGS/NEFT/IMPS के मध्यम से अन्य बैंकों से भुगतान प्राप्त कर सकता है और दूसरे बैंको को भुगतान कर भी सकता है.

भारत में पेमेंट बैंकों की सूची (List of Payment Banks in India)

1. Airtel Payments Bank LTD

2. Indian Payments Bank LTD

3. Fino Payments Bank LTD

4. Paytm Payments Bank LTD

5. jio Payments Bank LTD

6. NSDL Payments Bank LTD

Happy Holi : इस होली भरे जीवन में खुशियो के रंग : बचेगा टैक्स बढ़ेगी कमाई

दोस्तों होली का त्यौहार आ गया हैं और आपने अभी तक Financial Year 2021-22 का टैक्स बचाने (Tax saving scheme) के लिए कोई Tax Planing नहीं की हैं तो इस होली आप ऐसा कर सकते हैं। होली के इस अवसर पर चुनिंदा कुछ स्किम में निवेश कर आप आपने जीवन को खुशियों के रंग से भर सकते हैं, इस तरह आप ना ही सिर्फ पैसा कमा सकते हैं बल्कि टैक्स भी बचा सकते हैं, तो आइए जानते हैं टैक्स बचाने के आपके पास क्या-क्या विकल्प हैं :

  • Fixed Deposit (फिक्स्ड डिपॉजिट) : एक से पांच साल

 एक Tax Payer के लिए किसी भी बैंक में फिक्स्ड डिपॉजिट करना निवेश और टैक्स बचाने के दृष्टिकोण से बहुत ही सुरक्षित मानी जाती हैं।  अगर आपने  बैंक में KYC करवा  रखी हैं तो आप घर बैठे ही नेट बैंकिंग की मद्त से अपना फिक्स्ड डिपॉजिट कर सकते हैं।  ये काम 31 मार्च से पहले कर ले ताकि Financial Year 2021-22 के इनकम टैक्स में आपको इसका फायदा मिल सके।

  •  Equity Linked Saving Scheme : अगर आप चाहें तो ईएलएसएस म्यूचुअल फंड स्कीम (Equity Linked Saving Scheme) में भी निवेश कर सकते हैं। इसमें निवेश की जाने वाली रकम पर भी आपको टैक्स छूट मिलेगी। इसकी अच्छी बात यह भी है कि इसमें सिर्फ 3 साल का लॉक-इन-पेरोइड होता है। कई मामले में यह बैंक एफडी से भी अच्छा विकल्प साबित होता  है। ये काम 31 मार्च से पहले कर ले ताकि Financial Year 2021-22 के इनकम टैक्स में आपको इसका फायदा मिल सके।
  •  PPF (पब्लिक प्रविडेंट फंड) :  हलाकि इस में आपका पैसा 15 सालो के लिए Block हो जाता हैं लेकिन अगर आप अपने पैसे को लम्बे अवधि के लिए निवेश करना चाहते हैं तो यह विकल्प बेहतर साबित हो सकता हैं
  • ULIP यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान : निवेश का यह विकल्प एक तरह का बीमा हैं जो को रिस्क कवर के साथ साथ निवेश करने का भी विकल्प देता हैं, इसमें स्टॉक, बॉन्ड, म्यूचुअल फंड में निवेश किया जाता है। अगर आप ऑनलाइन निवेश करेंगे तो किसी तरह का कमिशन नहीं देना होगा। नेट बैंकिंग, क्रेडिट कार्ड से पेमेंट किया जा सकता है। सम्भव हैं की किसी-किसी पॉलिसी में आधार कार्ड की जरूरत भी पड़ सकती है।
  • APY  अटल पेंशन योजना

 अगर आपकी उम्र 18 से 40 वर्ष की है तो आप अटल पेंशन योजना में निवेश कर सकते हैं। इस योजना में निवेश के लिए आप ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन भी कर सकते हैं। खास बात यह है कि APY में निवेश पर Income Tax Act के सेक्शन 80CCD(1) के तहत टैक्स छूट मिलती है। इसमें सेक्शन 80C के 1.50 लाख रुपये के अतिरिक्त सालाना 50,000 रुपये के टैक्स डिडक्शन का भी फायदा मिल जाता है।